Shivpuriप्रस्तावित बिजली दर वृद्धि में रोक व बढे हुए बिजली बिल वापस...

प्रस्तावित बिजली दर वृद्धि में रोक व बढे हुए बिजली बिल वापस लिए जाने की मांग को लेकर आप पार्टी ने सौंपा ज्ञापन / Shivpuri News

महंगी बिजली वृद्धि दर में नहीं हुआ सुधार तो आप पार्टी करेगी विरोध प्रदर्शन
शिवपुरी-आम आदमी पार्टी के द्वारा आगामी समय में प्रस्तावित बिजली दर वृद्धि में रोक एवं बढ़े हुए बिजली बिल वापिसी की मांग को लेकर एक ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर मनोज गरवाल को सौंपा और शीघ्र इस ओर उचित कदम उठाए जाने की मांग भी आप पार्टी के द्वारा की गई। आप पार्टी के नेता एड.पीयूष शर्मा ने बताया कि आने वाले समय में मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज मध्य प्रदेश में पहले से ही उपभोक्ताओं को महंगी बिजली की मार ने सताया है, वहीं सरकार बिजली कंपनी के साथ सांठगांठ करके पहले से ही लोगों को लूट रही है अब जबकि लगभग 15 महीने से लोग दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

ऐसे वक्त में बिजली के दामों में 70 प्रतिशत की बेतहाशा वृद्धि अमानवीय है जो कि न्यायोचित नहीं है इसलिए आप पार्टी इस तरह की प्रस्तावित बिजली दर वृद्धि एवं बढ़े हुए बिजली बिलों को वापिस लेने की मांग करती है ताकि आमजनता के साथ न्याय हो सके और जनता पर अनावश्यक बोझ ना डाला जाए। इस दौरान ज्ञापन सौंपने वालों में वीरेन्द्र सिंह रावत, रज्जन खान व योगेश खटीक शामिल रहे। यहां आप पार्टी ने प्रदेश सरकार से आग्रह किया है कि बढ़े हुए बिजली के दामों को तत्काल प्रभाव से कम किया जाए, प्रदेश के लोगों को महंगी बिजली से राहत देने का काम आप करें, आम आदमी पार्टी आपसे मांग करती है किसी भी प्रकार से बिजली के दामो में वृद्धि न कि जाए अगर बिजली के दाम बढ़ते है तो आम आदमी पार्टी कोरोना काल मे सड़क पर उतर कर जनहित में भारी विरोध प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होगी।
इस तरह बताया कि कैसे बढ़ रही बिजली दर वृद्धि आप पार्टी ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार बिजली 200 यूनिट तक हर व्यक्ति के लिए मुफ्त दे रही है तथा 400 यूनिट तक आधे दाम हैं, जबकि आप यह भी जानते हैं की बिजली का उत्पादन दिल्ली में नहीं होता बल्कि वहां पर जो बिजली लोगों को प्राप्त कराई जाती है द्य वह मध्य प्रदेश से खरीद कर दी जाती है फिर भी वहां पर लोगों को बिजली कम दाम में उपलब्ध कराई जा रही है जबकि मध्यप्रदेश में बिजली का उत्पादन भी होता है इसके बावजूद भी मध्य प्रदेश के अंदर 200 यूनिट बिजली के लगभग 1500 रुपये और 400 यूनिट के लगभग 3200 रुपये वसूले जाते हैं।

जैसा कि आप जानते हैं लगभग 15 माह से लोगों की दुकानों से व्यापार से आमदनी ना के बराबर हुई है बल्कि लोगों को नुकसान हुआ है ऐसे में भी बंद दुकानों से बंद व्यापार से बिजली की मोटी रकम वसूली गई व्यवसायिक दर परए यह सरासर लूट है। ठीक इसी तरह से कृषि कार्य में जो बिजली का उपयोग होता है आपकी सरकार द्वारा एक तो किसानों को कम बिजली दी जा रही है ऊपर से कृषि वाली बिजली भी महंगी कर दी गई है। प्रदेश के मुखिया माननीय शिवराज सिंह चौहान जी आप यह अच्छी तरह से जानते हैं कि आम आदमी पार्टी कई वर्षों से महंगी बिजली के विरोध में काम कर रही है बार.बार आपसे इस बाबत आग्रह भी किया गया कि लोगों को बिजली कम दाम पर उपलब्ध कराई जाएए गरीब जरूरतमंदों को बिजली मुफ्त उपलब्ध कराई जाए जैसा कि दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार कर रही है।

सम्बंधित ख़बरें

Follow Us

17,733FansLike
0FollowersFollow
15FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Popular