Fast Samacharपुजारी पर हुए हमले को लेकर वैष्णव बैरागी समाज में रोष, कार्रवाई...

पुजारी पर हुए हमले को लेकर वैष्णव बैरागी समाज में रोष, कार्रवाई के लिए सौंपा ज्ञापन / Shivpuri News

मामला मंदसौर के पुजारी ने भूमि पर कब्जे को लेकर जहर खाकर आत्महत्या करने का किया प्रयास

शिवपुरी- मंदिरों में पूजा-अर्चन करने वाले मंदिर जब प्रशासन के प्रबंधक के रूप में अधीन है तो यहां पुजारी की सुरक्षा की जिम्मेवारी भी शासन-प्रशासन की होती है लेकिन मप्र के मंदसौर में पुजारी लालदास पुत्र देवरामदास बैरागी निवासी जवासिया जो कि श्रीराम मंदिर में पुजारी होकर शासन संधारित मंदिर में पूजा का काम करते है और मंदिर से सटी भूमि पर कृषि कर अपना भरण-पोषण करते है चूंकि इस मंदिर के प्रबंधक जिला कलेक्टर है बाबजूद इसके यहां मंदिर की भूमि पर सर्वे क्रं.1538 मंदिर की भूमि पर कन्हैयालाल पुत्र रामनारायण पाटीदार निवासी जवासिया तह.दलौदा जिला मंदसौर द्वारा अवैध कब्जा कर रखा है साथ ही पुजारी को आए प्रताडि़त किया जाता है जबकि पूर्व में भी इस मामले को लेकर कलेक्टर के द्वारा आादेश दिया गया था कि संबंधित अधिकारियों द्वारा 10 मार्च 21 को मौके पर पहुंचकर कार्यवाही करना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हुआ और अपने मंदिर की भूमि पर कब्जे को लेकर पुजारी लालदास इतने व्यथित हुए कि उन्होंने जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। 

 

इस घटना को लेकर समस्त वैष्णव बैरागी समाज, समस्त संत-महंत समाज, समस्त ब्राह्मण समाज व समस्त पुजारी समाज में रोष व्याप्त है और इस मामले में केवल मंदसौर मंदिर की भूमि ही नहीं वरन् संपूर्ण प्रदेश भर के मंदिरों की भूमि पर कब्जा करने वालों के खिलाफ उचित कार्यवाही की मांग को लेकर एक ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर को कलेक्टे्रट पहुंचकर सौंपा गया। 

 

जिसमें वैष्णव बैरागी समाज के प्रदेश संगठन मंत्री सत्येन्द्र त्यागी, प्रदेश उपाध्यक्ष मनीष बैरागी, जिलाध्यक्ष शिवपुरी गणेश बैरागी, संभाग उपाध्यक्ष लक्ष्मदास बैरागी, उपाध्यक्ष अरविन्द बैरागी, विधानसभा अध्यक्ष कोलारस प्रदीप बैरागी, नगर अध्यक्ष कोलारस प्रहलाददास बैरागी, नरेन्द्रदास बैरागी, आशीष बैरागी, संतोष बैरागी, रामदास बैरागी, लक्ष्मणदास बैरागी नगर अध्यक्ष शिवपुरी आदि शामिल रहे जिन्होंने पुजारियों के संरक्षण को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम एक ज्ञापन जिला कलेक्टे्रट के जिम्मेदार अधिकारियों को सौंपा और पुजारियों की रक्षा-सुरक्षा व मंदिर भूमि पर होने वाले कब्जों को मुक्त कराने की मांग की।

सम्बंधित ख़बरें

Follow Us

17,733FansLike
0FollowersFollow
15FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Popular