Fast Samacharबजरंगदल विश्व हिन्दू परिषद द्वारा कोरोना वैक्सीनेशन शिविर में दिया जा रहा...

बजरंगदल विश्व हिन्दू परिषद द्वारा कोरोना वैक्सीनेशन शिविर में दिया जा रहा बढ़-चढ़कर योगदान / Shivpuri News

अब तक कोरोना वैक्सीनेशन के 8 शिविरों के साथ 121 यूनिट किया जा चुका है रक्तदान

शिवपुरी। आपदा के समय आमजन की पीड़ा को समझकर सदैव सहयोग और कार्य करने के लिए तत्पर रहने वाला सेवाभावी संगठन बजरंगदल विश्व हिन्दू परिषद द्वारा वर्तमान कोरोना काल में भी आमजन को रक्त की उपलब्धता के लिए एक ओर जहां अब तक आधा दर्जन स्थानों पर रक्तदान शिविर कर रक्तकोष की पूर्ति में अपना अभिन्न योगदान देते हुए 121 यूनिट रक्तदान किया गया है तो वहीं दूसरी ओर कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर भी इस संगठन के द्वारा आठ स्थानों पर वैक्सीनेशन शिविर लगाकर हजारों लोगों का कोरोना संक्रमण से बचाव भी किया गया है।

बजरंगदल विश्व हिन्दू परिषद संगठन के विभाग संयोजक नरेश ओझा, जिला मंत्री विनोदपुरी गोस्वामी, जिला सह संयोजक उपेन्द्र यादव, रमेश ओझा, संदीप चौहान व सुनील राठौर का इन शिविरों में विशेष योगदान रहा जिसके परिणामस्वरूप संगठन के समस्त पदाधिकारी व सदस्यगण एकजुट होकर आयोजन में अपनी सहभागिता प्रदान करते हुए रक्तदान और वैक्सीनेशन शिविर में भाग लेकर इन आयोजनों को सफल बनाया। बताना होगा कि बजरंगदल विश्व हिन्दू परिषद द्वारा कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जहां जन-जागरण अभियान चलाने के बाद वैक्सीनेशन शिविरों के माध्यम से करीब 12 स्थानों पर यह शिविर लगाए गए जिसमें हजारों लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर कोरोना का टीकाकरण कार्य किया गया। इसके अलावा जिला चिकित्सालय के रक्तकोष की पूर्ति को लेकर आधा दर्जन स्थानों पर रक्तदान शिविर का आयोजन 121 यूनिट का रक्तदान रक्तकोष की पूर्ति को लेकर किया गया।

जिसमें युवाओं ने सर्वाधिक रूप से रक्तदान किया जिन्होंने अभी कोरोना वैक्सीन से पहले रक्तदान करने की इच्छा जाहिर की ताकि ऐसे लोग जिन्हें रक्त की आवश्यकता पड़े उन्हें परेशानी ना हो और वह इन युवाओं के रक्त के माध्यम से अपने रक्तदान की पूर्ति कर सके। बजरंगदल विश्व हिन्दू परिषद द्वारा हर समय जनसेवा और समाजसेवा के साथ हिन्दुत्व की रक्षा को लेकर सदैव अग्रणीय पंक्ति में खड़ा रहता है यही कारण है कि कोरेाना काल जैसे इस युग में भी आज सर्वाधिक युवाओं ने इसी संगठन से जुड़कर अपनी सेवा गतिविधियों को बल दिया और आज भी वह संगठन के उद्देश्यों की पूर्ति को लेकर सतत कार्यरत रहते है।

सम्बंधित ख़बरें

Follow Us

17,733FansLike
0FollowersFollow
17FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Popular