Fast Samacharसभी के साझा प्रयासों से मूर्तरूप लेगा “Gwalior-To-Global” का विचार : सिंधिया...

सभी के साझा प्रयासों से मूर्तरूप लेगा “Gwalior-To-Global” का विचार : सिंधिया / Gwalior News

ग्वालियर। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ‘ग्वालियर-टू- ग्लोबल’ समिट में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए। इस अवसर पर उन्होंने कहा ग्वालियर के विकास के लिए शैक्षणिक संस्थान, उद्यमी, बुद्धिजीवियों व युवाओं को एक साथ आना होगा। सभी के प्रयास ऐसे हों जिससे इस प्रकार के नए भारत का निर्माण हो जो हमारी संस्कृति और आधुनिकता का संगम बने।

श्री सिंधिया ने जीटूजी के विचार को ग्वालियर-टू-ग्लोबल से ग्लोबल-टू-ग्वालियर तक विस्तृत करने पर बल दिया। इसके लिए उन्होंने सात सूत्र भी बताए। उन्होंने कहा कि ग्वालियर पर्यटन के लिहाज से अपार संभावनाओं का शहर है। जरूरत यहाँ की खूबियों की बेहतर ब्रांडिंग की है, जिससे देश-विदेश के लोग ग्वालियर की ओर आकर्षित हों।

 

सोमवार को यहाँ जीवाजी विश्वविद्यालय के अंतर्राष्ट्रीय अटल विहारी वाजपेयी कन्वेंशन सेंटर में सीआईआई (कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज) तथा जीवाजी विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में ग्वालियर-टू-ग्लोबल सबमिट का आयोजन हुआ। ग्वालियर के उत्पादों को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने के उद्देश्य से इस समिट का आयोजन किया गया। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर-टू-ग्लोबल समिट को शहर व देश के समग्र विकास के लिए अच्छी प्रक्रिया बताया।

श्री सिंधिया ने कहा कि शहर में विश्वस्तरीय संस्थान हैं और यहाँ के उत्पाद भी उत्कृष्ट हैं। बस सही तरीके से इनकी ब्रांडिंग किए जाने किए जाने की जरूरत है। ग्वालियर शहर रेल, सड़क व वायुमार्ग से देश के सभी भागों से जुड़ा है। जीवाजी विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला ने विश्वविद्यालय में चलाए जा रहे विभिन्न कोर्स और कार्यक्रमों के बारे में बताया।

 

केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जीवाजी विश्वविद्यालय में रिसर्च एण्ड डवलपमेंट सेंटर स्थापित करने पर भी विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि कोई भी विश्वविद्यालय तभी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान स्थापित कर सकता है जब उसमें उत्कृष्ट स्तर के शोध कार्य हों। उन्होंने यूरोप के विभिन्न विश्वविद्यालयों का इसके लिए उदाहरण दिया। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में एक अहम एमओयू हुआ।

जेयू कुलपति प्रो.संगीता शुक्ला और वर्कफाई स्टार्टअप कंपनी की सीईओ कु. आकांक्षी वैश्य के साथ इस एमओयू पर हस्ताक्षर हुए हैं। इस समझौते के तहत एक गोबर व पराली बैंक बनाया जाएगा। जेयू में इस पर शोध किया जा रहा है। कु. आकांक्षी वैश्य ने बताया कि पराली व गोबर से वैकल्पिक कोयला तैयार होगा, जिससे क्षेत्र के किसानों को बड़ा फायदा होगा।

सम्बंधित ख़बरें

Follow Us

17,733FansLike
0FollowersFollow
16FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Popular