Shivpuriस्थाई नियुक्ति सहित विभिन्न मांगों को लेकर अतिथि शिक्षकों ने मुख्यमंत्री के...

स्थाई नियुक्ति सहित विभिन्न मांगों को लेकर अतिथि शिक्षकों ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन / Shivpuri News

शिवपुरी। प्रदेश के समस्त शासकीय स्कूलों में एक निश्चित मानदेय पर सेवा देने वाले अतिथि शिक्षकों के द्वारा संयुक्त अतिथि शिक्षक संघ जिला शिवपुरी के कार्यकारी जिलाध्यक्ष की अध्यक्षता में प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान के नाम ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारी को सौंपा।

मांग की गई कि शासकीय विद्यालयों में विगत 13 वर्षों से लगभग 70 हजार अतिथि शिक्षक अत्यन्त अल्प मानदेय में अपनी सेवाएं देते आ रहे है। जिनको प्रतिवर्ष सत्र समाप्त होने से पहले या पश्चात् सेवा से पृथक कर दिया जाता है। अतिथि शिक्षकों के 13 वर्ष सेवा देने के बाद भी अतिथि शिक्षकों का भविष्य सुरक्षित करने हेतु कोई नीति नहीं बनाई गई । जिससे अतिथि शिक्षकों के परिवार में गहराते आर्थिक संकट व अंधकारमय भविष्य के प्रति चिंता बढ़ती जा रही है।

आगे कार्यकारी जिला अध्यक्ष बताते है कि लगभग 70 से अधिक अतिथि शिक्षकों  आत्महत्या जैसे कदम उठा लिये और अकाल मृत्यु को प्राप्त भी हुये जिससे उनके परिवार का पालन – पोषण करना मुश्किल होता जा रहा है।अतिथि शिक्षकों के पक्ष में समर्थन देते हुए प्रदेश के कई विधायक, मंत्री व माननीय सांसद के द्वारा पत्र लिखा गया है। परन्तु अभी तक हमारे नियमितीकरण के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।

कार्यकारी जिला अध्यक्ष ने आगे बताया कि  शासन प्रशासन निम्नाकिंत मांगो पर विचार करते हुए 15 दिवस के भीतर निराकरण करने की कृपा करें अन्यथा कि स्थिति में आन्दोलन को तीव्र किया जायेगा।

अतिथि शिक्षकों की प्रमुख मांगे निम्न है

1. अतिथि शिक्षकों का 12 माह का सेवाकाल स्थाई पद व मासिक वेतन प्रदान किया जाये ।

2. आर.टी.ई.मापदण्ड पूरा करने वाले अतिथि शिक्षकों को शिक्षक पद पर नियोजित किया जायें ।

3.प्रशिक्षित अतिथि शिक्षकों की अलग से पात्रता परीक्षा ली जाये व उसमें अर्हताकारी अंक 30-40 प्रतिशत रखे जाये जैसे सत्र 2012 में गुरूजी कीअलग से आयोजित परीक्षा में रखें गये थे।

04.अप्रशिक्षित अतिथि शिक्षकों को आपरेशन क्वालिटी या एन.आई.ओ.एस.से इत्यादी विधियों से  प्रशिक्षित किया जायें।

05.जो अतिथि शिक्षक 3 सत्र से अधिक सेवा देकर स्‍थानान्‍तरण या पदपूर्ति होने पर सेवाओं से बाहर हो गये उन्‍हें भी पुन सेवा में लाकर उक्‍त लाभ दिया जायें ।

6. प्राथमिक/माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत अतिथि शिक्षकों को पुनः स्कूल संचालित कर सेवा में लिया जाये।

सम्बंधित ख़बरें

Follow Us

17,733FansLike
0FollowersFollow
16FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Popular