Shivpuriकुपोषण और व्यवस्थाओं से जंग हारी लक्ष्‌मी, ग्वालियर में इलाज के दौरान...

कुपोषण और व्यवस्थाओं से जंग हारी लक्ष्‌मी, ग्वालियर में इलाज के दौरान मौत / Shivpuri News

 

शिवपुरी।  कुपोषण खत्म करने के लिए सरकार कितने भी नारे बुलंद कर ले, योजनाओं का ढेर लगा दे, लेकिन सच्चाई यह है कि आज भी ग्रामीण अंचल में कुपोषण बच्चों की जान ले रहा है। शनिवार को कोलारस में सामने आए कुपोषण के मामले में एक साल की लक्ष्‌मी ने व्यवस्थाओं से जंग हारकर अपनी जान गंवा दी। शनिवार को कोलारस के चंद्रभान आदिवासी अपनी एक साल की बच्ची लक्ष्‌मी को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। यहां से बच्ची को शिवपुरी रैफर कर दिया गया और रविवार को उसे शिवपुरी से ग्वालियर रैफर कर दिया गया। आखिर में ग्वालियर में लक्ष्‌मी में दम तोड़ दिया। एक साल की लक्ष्‌मी का वजन महज ढ़ाई किलो था। शरीर इतना कमजोर था कि हड्डियां गिन सकते थे। शरीर में इतनी ताकत नहीं थी कि वह ठीक से बैठ भी पाए। चंद्रभान ने रविवार को कोलारस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सकों पर ठीक से इलाज न करने के आरोप भी लगाए थे। उसका कहना था कि तीन दिन से चक्कर लगाने के बाद भी इलाज नहीं मिल पाया। यदि चंद्रभान के लगाए आरोप सही हैं तो लक्ष्‌मी की मौत के लिए कुपोषण के साथ अव्यवस्थाएं भी जिम्मेदार होंगी। यदि बच्ची को समय पर इलाज मिल पाता तो शायद वह बच जाती। लक्ष्‌मी के भाई कान्हा भी कुपोषण का शिकार है और सोमवार को उसे भी एनआरसी में भर्ती कराया गया है।

 

लक्ष्‌मी के माता-पिता कोलारस के वार्ड क्रमांक 3 में कच्ची टपरिया बनाकर रहते हैं। वह महुरानीपुर में मजदूरी कार्य करने के लिए गए थे और 10-12 दिन पूर्व ही कोलारस वापस लौटे थे। पांच दिन पहले ही उनकी बालिका लक्ष्‌मी और बालक कान्हा की तबियत खराब हुई जिन्हें लेकर वह तांत्रिक और ओझाओं के चक्कर में झाडफ़ूंक कराते रहे। लेकिन हालत में सुधार न हो पाने के बाद बालिका लक्ष्‌मी को कोलारस स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया और फिर यहां से बच्ची के एक से दूसरी जगह रैफर होने का सिलसिला चलता रहा। सोमवार को डीपीओ देवेंद्र सुंदरियाल परियोजना अधिकारी एवं कार्यकर्ता के साथ कोलारस वार्ड क्रमांक 3 पहुंचे एवं चन्द्रभान आदिवासी को समझा बुझाकर उनके दूसरे बच्चे कान्हा को एनआरसी में भर्ती कराने हेतु राजी किया। परिवार को जिला प्रशासन द्वारा पांच हजार रूपए की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की गई है।

सम्बंधित ख़बरें

Follow Us

17,733FansLike
0FollowersFollow
17FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Popular