प्रशासनिक सजगता ने एक ओर बेटी का बाल विवाह रुकवाया / Shivpuri News

- चाइल्ड लाइन की सूचना पर दो परियोजनाओं की टीमों ने किया प्रयास, रुक गया बाल विवाह


शिवपुरी/ पिछोर- चाइल्ड लाइन नंबर 1098 पर सूचना मिली कि भौंती थाना क्षेत्र के देवरी गांव निवासी मोहन सिंह गुर्जर अपनी 13 साल की बेटी का विवाह शुक्रवार को पाठ खेरा गांव में उसके मामा के यहां से कर रहा है। सूचना मिलने पर जिला कार्यालय द्वारा परियोजना अधिकारी पिछोर अरविंद तिवारी एवं परियोजना अधिकारी शिवपुरी ग्रामीण केशव गोयल को सूचना की जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिए गये।


    परियोजना अधिकारी केशव गोयल ने जब सेक्टर पर्यवेक्षक एवं स्थानीय कार्यकर्ता से विवाह आयोजन के संबंध में जानकारी ली तो पता चला कि रात में पुलिस टीम गांव में आई थी,जिसके बाद से लड़की के माता- पिता एवं उसके मामा का परिवार रात में ही घर से कहीं चले गए है। बालिका के मामा भारत सिंह गुर्जर के घर ताला लगा हुआ है। भारत सिंह के अन्य परिवार वालों को समझाया गया तो उन्होंने भरोसा दिलाया कि अब उनके यहां से विवाह आयोजन नहीं किया जाएगा।



     पिछोर परियोजना अधिकारी अरविंद तिवारी, सामाजिक कार्यकर्ता हरनाम सिंह तोमर ने स्थानीय आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ देवरी गांव में जाकर देखा तो पता चला कि उसके घर पर ताला लगा हुआ है। टीम वापस लौट आयी। शाम को फिर एकबार टीम गांव पहुंची तो लड़की और उसके माता- पिता घर पर मिले। टीम ने जब परिजनों को समझाया कि जिले में विवाह आयोजनों पर रोक लगी हुई है तथा लड़की की उम्र भी कम है,इसलिए अभी इसका विवाह नहीं कर सकते। तब परिजनों ने लिखित वचन दिया कि अब वे उसका विवाह 18 वर्ष की उम्र पूरी होने तक नहीं करेंगे।


    टीम ने जब लड़की के पिता से पूछा कि मामा के यहां से विवाह क्यों करना चाह रहे थे। तो उसने बताया कि गांव के लोग शिकायत करेंगे,इसलिए उसके मामा के यहां से विवाह करने का मन बनाया था। हमें क्या पता था कि वहां भी पुलिस आ जायेगी। परिजनों को समझाया गया कि लड़की का विवाह 18 वर्ष के पहले करना अपराध है,उसके लिए 3 साल तक की सजा और एक लाख रुपये के जुर्माने का प्रावधान है, तो परिजन ने लिखित वचन दिया कि अब उम्र पूरी होने के बाद ही विवाह करेंगे।

नया पेज पुराने