स्वसहायता समूहि व महिला मंडल के सदस्य बोले पोषण आहार वितरण से रखा वंचित अब अजीविका पर मडरा रहा संकट / Shivpuri News

शिवपुरी। स्व सहायता समूह व महिला मंडल द्वारा मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारी को सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से बताया कि 20 जनवरी 2021 को जारी हुए आदेश के अनुसार शहरी परियोजना एवं शहरी क्षेत्रों में संचालित आंगनबाड़ी केंद्र या उप आंगनबाड़ी केंद्रों पर 3 से 6 वर्ष के बच्चाें के लिए ताजे पके हुए पूरक पोषण आहार की व्यवस्था राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन, राज्य शहरी आजीविका मिशन के पंजीकृत महिला स्व-सहायता समूह तथा तेजस्विनी समूहों से कराई जाएगी। इन निर्देशों के तहत सिर्फ शहरी आजीविका मिशन के ही समूहों को इस व्यवस्था में शामिल किया गया और स्व सहायता समूह, महिला मंडल, स्व सहायता समूहों के परिसंघ को वंचित रखा गया है।

एकता बचत एवं साख समूह के अध्यक्ष प्रेम, सचिव मीरा व कोषाध्यक्ष सकुन ने बताया कि इन निर्देशों से किसी भी स्थानीय स्व सहायता समूह, महिला मंडल को आपत्ति नहीं है लेकिन इस व्यवस्था में शहरी आजीविका मिशन के समूहों के साथ-साथ स्थानीय स्व-सहायता समूह व महिला मंडल को भी शामिल किया जाए जो समूह निर्धारित मापदंड अनुसार पात्र पाए जाते हैं उन्हें ही पूरक पोषण आहार प्रदान का कार्य दिया जाए जिससे पूर्व में कार्यरत स्व-सहायता समूह, महिला मंडल के सदस्यों की आजीविका भी चलती रहे। ज्ञापन के माध्यम से मुख्यमंत्री से मांग की गई कि पोषण आहर प्रदाय व्यवस्था में विगत 10-12 वर्षों से कार्यरत स्व-सहायता समूह, महिला मंडलों की गरीब महिलाओं के आजीविका के संकट को देखते हुए 20 जनवरी 2021 के शासन के आदेश को निरस्त किया जाकर पहले की तरह समूहों, महिला मंडलों को पोषण आहार व्यवस्था में लगाया जाए।

नया पेज पुराने