ग्वालियर: कचरा व्यवस्था से नाराज सीएम ने निगमायुक्त को हटाया / Gwalior News



ग्वालियर। ग्वालियर में वेतन नहीं मिलने के कारण हड़ताल पर गए कर्मचारियों द्वारा सड़कों पर कचरा फेंके जाने को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नाराजगी व्यक्त की है। कलेक्टर-कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री ने ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर संदीप माकिन से सवाल-जबाव किए। सीएम ने पूछा कि वेतन देने में इतना विलंब क्यों हुआ,आप कमिश्नर हैं,शहर में स्वच्छता कायम रखना आपकी जिम्मेदारी है। लेकिन आपके सामने सड़कों को कचरा फेंका जा रहा है। यह सहन करने लायक नहीं है। सीएम बोले,अब बहुत हो गया। उन्होंने मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस से कहा,इनकी छुट्टी कर दो। मुख्यमंत्री ने सभी नगर निगमों के कमिश्नरों से कहा है कि यह सुनिश्चित कर लें कि कर्मचारियों को समय पर वेतन मिलना चाहिए। दरअसल,मामला यह है कि वेतन नहीं मिलने के कारण ग्वालियर में सफाई कर्मचारी हड़ताल पर हैं। रविवार को उन्होंने कचरा सड़कों पर फैंक कर अपना विरोध दर्ज कराया। इसको लेकर रविवार को सीएम कार्यालय से कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह को निर्देश दिए गए कि कर्मचारियों का वेतन कराए ताकि सफाई व्यवस्था बहाल हो सके। बावजूद इसके कर्मचारी काम पर नहीं लोटे। इसको लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नाराजगी व्यक्त की है। बताया जाता है कि ग्वालियर में वेतन न मिलने के कारण हड़ताल पर गए निगम में आउटसोर्स पर काम कर रहे ईको ग्रीन कंपनी के कर्मचारियों ने रविवार को बस स्टैंड के बाहर कचरा फेंक दिया था। हड़ताली कर्मचारियों ने निगम की डिपो से निकलने वाले वाहनों को भी रोकने की कोशिश की थी। इसके बाद निगम अधिकारियों ने पुलिस को बुलाया तो हड़ताली कर्मचारी थाटीपुर और मुरार चले गए। कर्मचारियों ने थाटीपुर,मुरार,कालपी ब्रिज रोड,गोले का मंदिर,उपनगर हजीरा सहित कई जगह कचरा सड़कों पर डाला। उधर,हड़ताल और कचरा सड़कों पर फेंके जाने का मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कार्यालय तक पहुंचा था।
नगर निगम की सफाई
निगम के अधिकारियों का दावा है कि हड़ताल में शामिल कर्मचारियों के खाते में 20 अक्टूबर से नवंबर 2020 तक का वेतन डाल दिया गया है। दिसंबर का वेतन जल्द दिया जाएगा। जबकि हड़ताल में शामिल कर्मचारियों का कहना है कि जब तक तीन महीने 20 दिन का वेतन नहीं मिल जाता,तब तक वे हड़ताल पर रहेंगे।
1 साल में वेतन के लिए 9 बार हड़ताल कर चुके सफाई कर्मी 
ईको ग्रीन कंपनी के कर्मचारी अब नगर निगम में आउटसोर्स पर कार्यरत पिछले एक साल में वेतन के लिए नौवीं बार हड़ताल कर चुके हैं। पहले कंपनी के अफसरों ने वेतन देने में लापरवाही की और अब नगर निगम भी वेतन समय पर नहीं दे रहा है। इस कारण 9वीं बार हड़ताल की गई है।
नया पेज पुराने