पिछोर में एक साल से सेल्समैन घर बैठे, निजी व्यक्ति चला रहे हैं कंट्रोल ,परेशान सेल्समैनों ने एस डी एम् कार्यालय के सामने दिया धरना / Pichore News

सेल्समैन बोले एसडीएम फूड इंस्पेक्टर और प्रशासक करा रहे हैं भ्रष्टाचार

अधिकारियों द्वारा कोरोना काल का खाद्यान्न बेचे जाने का भी लगाया आरोप


पिछोर-  पिछोर तहसील स्थित अनुविभागीय (एसडीएम) कार्यालय पर आज अचानक बड़ी संख्या में  पिछोर और खनियाधाना क्षेत्र के शासकीय उचित मूल्य की दुकानों के सेल्समैन ने आकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया और सेल्समैनो ने पिछोर एसडीएम के आर चौकिकर, फूड इंस्पेक्टर रूपेंद्र परमार ,और प्रशासक राकेश चौहान एवं देवेन्द्र दंगी के मुर्दाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिया । उचित मूल्य की दुकानों के सेल्समेनों का आरोप है कि स्थानीय अधिकारियो ने काला बाजारी करने के उद्देश्य से हम सेल्समेनों को दुकानों से हटाकर अन्य लोगों से नियम विरुद्ध दुकाने संचालित करा रहे हैं। साथ ही कोरोना काल का खाद्यान्न भी हितग्राहियों को न बांटे जाने के आरोप धरने पर बैठे सेल्समेनों ने स्थानीय प्रशासन पर लगाये है। भाजपा नेता पीतम लोधी ने कहा है कि वे इस घोटाले की शिकायत कल ही मुख्यमंत्री से मिलकर करेंगे। और दोषियों पर कार्यवाही के लिए जांच कराएंगे। आखिर रजिस्टर्ड सेल्समैन की जगह अन्य व्यक्ति किसके कहने पर कंट्रोल चला रहे हैं। फूड इंस्पेक्टर रूपेंद्र परमार तबादले के बाद रिलीफ क्यों नहीं हुए इसकी भी शिकायत करूंगा। उधर एस डी एम के आर चौ़कीकर ने फूड इंस्पेक्टर को नोटिस जारी कर जांच कर दोषियों पर कार्यवाही की जाने कि बात कही है। लेकिन पिछोर में जिले का सबसे बड़ा खाद्यान्न घोटाला पिछले एक साल से किसके कहने पर चल रहा है। ये सोचने की बात है। आखिर क्यों प्रशासन इस बड़ी अनियमितता के विरूद्ध कार्यवाही करने से एक साल से बचता आ रहा है।


फूड इंस्पेक्टर पैसे लेकर करा रहे हैं धांधली

धरने में शामिल शासकीय उचित मूल्य की दुकान गजोरा के सेल्समैन रामेश्वर लोधी ने आरोप लगाते हुए कहा कि पैसा लेकर फूड इंस्पेक्टर गरीबों के खाद्यान्न की कालाबाजारी करा रहे हैं।साथ ही यह आरोप भी लगाया कि उनकी जगह पर अन्य निजी व्यक्ति शासकीय उचित मूल्य की दुकानो पर अवैधानिक रूप से कार्य कर रहे हैं । जिसके लिए ना कोई ठहराव प्रस्ताव डाले गए हैं ना कोई हटाने सम्बंधि नोटिस आदि जारी किए गए हैं । किसी अन्य सेल्समैन को रखने और हटाने संबंधी कोई वैधानिक कार्यवाही नही की गई है।

राजनीति से प्रेरित है भ्रष्टाचार

धरना दे रहे सेल्समेनों ने बताया कि स्थानीय अधिकारी राजनीति से प्रेरित होकर हम सेल्समैनो के साथ अन्याय कर रहे हैं। धरना प्रदर्शन में शामिल शासकीय उचित मूल्य की दुकान के सेल्समैन जितेंद्र पाराशर ने आरोप लगाते हुए बताया कि फूड इंस्पेक्टर रुपेंद्र सिंह परमार स्थानांतरण होने के बाद भी  राजनैतिक हस्तक्षेप के चलते पिछोर में डटे हुए हैं । और अनियमितताओं को अंजाम दे रहे हैं । परमार पिछोर के बड़े नेता के संरक्षण में गरीब लोगों के हक पर डांका डाल रहे हैं। साथ ही प्रशासक से मिलकर हमे दुकानों से दूर रखकर बिना नियुक्ति निजय व्यक्तियों द्वारा आधा अधूरा खाद्य6 बंटवाया जा रहा है।

न्यायालय के आदेश की हो रही है अवहेलना

ग्राम नदनवारा के सेल्समैन फूल सिंह यादव ने बताया कि मुझे न्यायालय द्वारा दुकान पर रखने के लिए आदेशित किया गया था। लेकिन एसडीएम के आर चौकीकर, फूड इंस्पेक्टर रूपेंद्र सिंह परमार और प्रशासक राकेश चौहान एवं देवेंद्र सिंह दांगी आदि न्यायालय के आदेश की अवहेलना करते हुए मुझे नहीं रख रहे हैं। बल्कि कई तरह के बहाने ईजाद कर  टालमटोल कर रहे हैं।

कोरोना काल का आवंटन भी डकार गए

 धरना स्थल पर इकट्ठा हुए सेल्समैनो ने बताया कि कोरोनाकाल के समय का सितंबर से नवंबर तक का गरीबो को सरकार द्वारा जरूरतमंद लोगों के लिए भेजा गया खाद्यान्न पिछोर विधानसभा की ग्राम पंचायतों में नहीं बांटा गया । आमजन और हम सेल्समेनों द्वारा की गईं शिकायतों के बाद भी अधिकारी जांच तक नहीं कर रहे हैं। हमारे लिए सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि सेल्समेन के रूप में कागजों में हमारा ही नाम चल रहा है मगर दुकानों पर खाधान्न वितरण का कार्य अधिकारियों के निजी व्यक्ति कर रहे हैं । इस संबंध में हमने मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से लेकर कलेक्टर तथा स्थानीय एसडीएम को भी कई बार शिकायत दर्ज कराई। कई बार मौखिक जानकारी भी दी। यहाँ तक कि विरोध प्रदर्शन कर भी शिकायत दर्ज कराई, लेकिन पिछोर में पदस्थ एसडीएम केआर चौकीकर और पिछोर में ही पदस्थ सहकारिता प्रशासक व कनिष्ठ खाद्य आपूर्ति अधिकारी की मिलीभगत तथा भ्रष्टाचारी से कोई कार्यवाही नहीं हो रही है।

 इस क्रम में आज धरना प्रदर्शन कर उनके बंद कानों तक यह आवाज पहुंचाई जा रही है इस संबंध में कलेक्टर और एसडीएम केयर चौकीकर को अल्टीमेटम भी दिया जा चुका है मौके पर सेल्समैन ने बताया कि हमारे नेता पीतम लोधी आ रहे हैं जब तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा इधर जब प्रशासन मैं  एसडीएम के आर चौकीकर से इस संबंध में बात की गई तो योजनाओं की जानकारी देते हुए वे सेल्समैनो की बात टालते नजर आए धरना प्रदर्शन में शामिल होने आए।

ये सेल्समेन रहे धरना में शामिल


 पिछोर के स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों के संरक्षण में  अपनी जगह दूसरे व्यक्तियों द्वारा उचित मूल्य की दुकाने संचालित कर भ्रष्टाचार किये जाने के मामले को लेकर पिछोर एस डी एम के कार्यालय पर धरना देने वालों में प्रमुख तौर पर रामेश्वर लोधी बदरखा, रामेश्वर लोधी गजोरा, जितेंद्र पाराशर रही, कृष्णपाल सिंह लोधी रेवई, अजब सिंह यादव जंगीपुर, अजब सिंह यादव छिरवाहा, मनोज लोधी खुरई, जय किशन लोधी दुल्हई, अवतार सिंह  बिजरावन, रामलखन यादव मायापुर, राकेश परिहार मुहारी, कला गब्बर सिंह ठाकुर सुजवाहा, शिव कांत यादव बंडा, राजेंद्र यादव पोठयाई, फुल सिंह यादव वनदनवारा, कल्याण लोधी चंदू पहाड़ी, चंदन लोधी अमरपुर देवरा, राजेश लोधी बमना, दीपक लोधी सलैया, कृष्ण कुमार लोधी दविया गोविंदपुर, शिशुपाल यादव बुकर्रा समेत अनेक शासकीय उचित मूल्य की दुकानों के सेल्समैन मौजूद थे।


दवाब बनाने के लिए दे रहे हैं धरना

जो सेल्समेन धरना प्रदर्शन कर रहे हैं उन्हें एक साल पहले उनकी सोसायटियों के प्रशासकों ने हटाकर अन्य लोगों को नियुक्त कर दिया था वे ही अब खाधान्न वितरण कर रहे हैं।  प्रशासन पर दबाब बनाने के लिए धरना प्रदर्शन कर रहे हैं।

रूपेंद्र सिंह परमार
कनिष्ठ खाद्य आपूर्ति अधिकारी पिछोर


जांच कराकर कार्यवाही की जाएगी

पिछोर में जिस समस्या को लेकर आज सेल्समैन ने धरना दिया है यह पिछले 1 साल से चल रहा है। मैंने फूड इंस्पेक्टर को पत्र जारी कर जांच के लिए बोला है। जो भी नियम विरुद्ध और दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
 के आर चौकीकार
 एसडीएम पिछोर


मुख्यमंत्री से शिकायत कर जांच कराऊंगा

पिछोर में राजनीतिक संरक्षण के चलते फूड इंस्पेक्टर रूपेंद्र परमार द्वारा भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा है ।पिछले 1 साल से सेल्समैनो की जगह दूसरे लोग खाद्यान्न आवंटन में भ्रष्टाचारी कर रहे हैं। कोरोना काल में मुख्यमंत्री महोदय ने जरूरतमंद लोगों के लिए खाद्यान्न भेजा था ।उसे भी यह लोग बेचकर खा गए हैं। मैं कल ही भोपाल जाकर इस विषय की शिकायत मुख्यमंत्री महोदय से करूंगा और जांच कराने के लिए टीम गठित कराने की बात करूंगा । रूपेंद्र परमार का तबादला पिछोर से बहुत पहले हो चुका है ।लेकिन राजनीतिक संरक्षण में भ्रष्टाचार करने के लिए यहां पर रुके हुए हैं ।

पीतम सिंह लोधी
वरिष्ठ भाजपा नेता पिछोर

नया पेज पुराने