अनदेखी : आठ साल से ठंडी पड़ी थी दुकानों की वसूली, संयुक्त कलेक्टर ने डंडा किया याद आई 40 दुकानों से एक करोड़ की वसूली / Shivpuri News

शिवपुरी। नगर पालिका द्वारा आज से 8 साल पहले करीब 40 दुकानों की ननीलामी की थी। नीलामी के बाद दुकानों के अधिपत्य सौंप दिए लेकिन वसूली नहीं की। जब मामला संयुक्त कलेक्टर के संज्ञान में आया तो उन्होंने खासी नाराजगी व्यक्त की और नपा को वसूली करने के आदेेश दिए। फटकार के बाद नगर पालिका की राजस्व टीम सोमवार को बकाया राशि जमा कराने के लिए मार्केट में पहुंची।

राजस्व निरीक्षक रमेश सगर नगर पालिका के एआरआई व कर्मचारियों को लेकर शहर के गांधी मार्केट और पत्रकार मार्केट पहुंचे। यहां 40 से ज्यादा दुकानों की 2011 और 2012 में नीलामी हुई थी। उस समय 25 प्रतिशत राशि जमा कराने के बाद तीन महीने के भीतर शेष 75 प्रतिशत जमा नहीं कराई। फिर भी नियम.शर्तें दरकिनार करके संबंधित लोगों को दुकानों का अाधिपत्य सौंप दिया। अधिकतर लोग दुकानें खोलकर आठ से नौ साल से अपना कारोबार कर रहे हैं। इनमें से कई दुकानदार ताे किराया तक जमा नहीं करा रहे हैं। नगर पालिका के पास पहले से बजट की कमी हैए जिससे जनहित से जुड़े काम भी नहीं हो पा रहे हैं। वहीं दुकानों का किराया ही 50 लाख से अधिक बकाया है, जिसकी वसूली में नगर पालिका विशेष ध्यान नहीं दे रही है। संयुक्त कलेक्टर की नाराजगी के बाद नींद से जागे अधिकारी इसी तरह वसूली अभियान पर निकलते रहे तो सारी राशि जमा हो जाएगी।

इतनी रकम बकाया है दुकान लेने वालों पर

गांधी मार्केट में श्रीराम सोनी ने एक दुकान 6.66 लाख में ली थी। दुकान की नीलामी राशि 4.99 लाख बकाया और 1.25 लाख किराया बाकी है। इतनी ही दूसरी दुकान की रकम है। हेमंत राठौर का 5 लाख बकाया है। दुकान में ताला डालने की नौबत आई तो 50 हजार तुरंत जमा कर दिए। महिला सीमा जैन पर 2.80 लाख रुपए नीलामी राशि और 1 लाख रुपए दुकान का किराया बाकी है। वहीं पत्रकार मार्केट में शिल्पा अग्रवाल की ऑनलाइन दुकान है, जिसका 8.65 लाख रुपए नीलामी राशि वसूली जाना है। 25 प्रतिशत राशि जमा कराने के आश्वासन पर दुकान सील नहीं की।

गांधी मार्केट में 27 दुकानें नीलाम नहीं, लोगों ने कब्जा कर गोदाम बना लिएरू राजस्व टीम में आरआई सगर सहित एआरआई गजेंद्र जैन, विनोद सक्सेना टीम के संग पहुंचे तो पता चला कि यहां 27 दुकानें नीलाम नहीं हैंए लेकिन इन दुकानों पर लोगों ने जबरन कब्जा कर लिया है और अपना ताला डालकर गोदामों के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। मामले में आरआई सगर का कहना है कि बकाया राशि वसूलने की कार्रवाई के साथ.साथ बिना नीलाम दुकानें भी खाली करवा रहे हैं। एक दुकान में तंदूर लगाकर उपयोग करते हुए मिला है, जिसे सील कर दिया है।
नया पेज पुराने