उपचुनाव से पूर्व बनाई जाए अतिथि शिक्षकों के नियमितिकरण की नीति | Shivpuri News


अतिथि शिक्षक संघ ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर की मांग
शिवपुरी। अतिथि शिक्षक समन्वय समिति के जिलाध्यक्ष दिलावर हसन आजाद के साथ जिले के अतिथि शिक्षक शुक्रवार को कलेक्टर को ज्ञापन देने पहुंचे। कलेक्टर अनुग्रहा पी को मुख्यमंत्री के नाम सौंपे गए ज्ञापन में अतिथि शिक्षक संघ की मांग थी कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में वर्षों से काम करने वाले अतिथि शिक्षकों के भविष्य को लेकर सरकार उपचुनाव से पूर्व उनके नियमितिकरण की नीति बनाई जाए। साथ ही वर्षभर में 12 माह का सेवाकाल लेते हुए उनके भविष्य को सुरक्षित किया जाए। इस मौके पर अतिथि शिक्षक संघ के पवन शर्मा, लोकेश सोनी, गणेशराम केवट, उपेंद्र रघुवंशी, गेंदालाल कुशवाह, हेमेंद्र भदौरिया, रामनिवास पाल, नीमेश सोनी सहित अन्य अतिथि शिक्षक मौजूद थे। 
13 साल सेवाएं देने के बाद भी भविष्य अधर में
मुख्यमंत्री के नाम अतिथि शिक्षक संघ द्वारा कलेक्टर को सौंपे गए ज्ञापन में उल्लेख किया गया कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में लगभग 70 हजार अतिथि शिक्षक अल्प मानदेय पर पिछले 13 सालों से अपनी सेवाएं दे रहे हैं। स्कूलों में 13 साल के सेवाकाल के बाद भी अतिथि शिक्षकों का भविष्य अधर में हैं। आर्थिक तंगी और असुरक्षित भविष्य के चलते कई अतिथि शिक्षक खुदकुशी कर चुके हैं। ज्ञापन में मांग की गई कि अतिथि शिक्षकों का उपचुनाव के पूर्व जल्द नियमितिकरण किया जाए। साथ ही अतिथि शिक्षकों के हित में नीति बनाकर 12 माह का सेवा काल मान्य करते हुए उनका भविष्य सुरक्षित किया जाए।
नया पेज पुराने