28 तारीक की गुना न्यायालय की खबरों को देखने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें

1.
अभियोजन अधिकारियों ने किया वृक्षारोपण

पीड़ित को न्याय दिलाने के साथ-साथ करेंगे पर्यावरण का संरक्षण

गुना। लोक अभियोजन संचालक महानिदेशक पुरुषोत्तम शर्मा के आदेशानुसार तथा डीपीओ आर.के.दुबे की उपस्थिति व मार्गदर्शन में गुना स्थित सिंहवास तालाब पर होमगार्ड ट्रेनिंग परिसर में फलदार व छायादार 25 पौधौं का बृक्षारोपण किया गया।
        
प्रकृति के संरक्षण के इस पावन कार्य मे एडीपीओ केजी  राठौर, एडीपीओ  राजेश सिंह आर्य, एडीपीओ निर्मल अग्रवाल, एडीपीओ प्रदीप कुमार मिश्रा, एडीपीओ मयंक भारद्वाज, सहायक ग्रेड 3 राजू लोधी व घनश्याम राजपूत की सक्रिय सहभागिता रही।
           
2.
       
वन्य प्राणियों के हत्यारों को सजा दिलाने हेतु एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला

गुना। सेंट्रल अकादमी फॉर पुलिस ट्रेनिंग भारत सरकार के तत्वाधान में वन्यजीव अपराध एवं वैज्ञानिक साक्ष्य विषय वेबीनार का आयोजन डीजी अभियोजन पुरुषोत्तम शर्मा के मुख्य आतिथ्य में किया गया साइबर व नवीन तकनीकी पर आयोजित एक दिवस प्रशिक्षण में अभियोजन और वन विभाग के अधिकारियों ने भाग लिया।
               श्री शर्मा ने दुर्लभ और विलुप्त  प्राणियों के आपराधिक प्रकरणों को शासन स्तर पर चिन्हित कराकर माननीय उच्च न्यायालय को प्रकरणों के शीघ्र निराकरण हेतु प्रस्ताव भेजे जाने की बात कही एवं प्रत्येक जिले में अपराधों की पैरवी हेतु एक-एक अभियोजन अधिकारी को अधिकृत किया है जिससे वन अपराध के प्रकरणों में निश्चित रूप से सजा बढ़ोतरी होगी।
        मीडिया सेल प्रभारी निर्मल अग्रवाल ने बताया कि मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है जहां प्रत्येक जिले में वन विभाग के प्रकरणों में पैरवी के लिए जिले स्तर पर एक-एक अभियोजन अधिकारी नियुक्त किए हैं मध्य प्रदेश की राज्य समन्वयक सुधा विजय सिंह भदौरिया ने वन्यजीव अपराध की जांच और न्यायालयीन प्रक्रिया के बारे में मौजूद अधिकारियों को विस्तार से बताया। जिला गुना से राजेश सिंह आर्य अभियोजन अधिकारी उपस्थित रहे।

3-
          
एससी एसटी एक्ट की धाराओ में तीन सगे भाइयों को विशेष न्यायालय ने भेजा जेल

गुना। विशेष न्यायालय एससी एसटी गुना में फसल पर ट्रैक्टर चलाने एवं जाति सूचक गाली देने के तीन आरोपी जगदीश मीना, हरिचरण मीना व शिवचरण मीना को पुलिस फतेहगढ़ द्वारा गिरफ्तार कर पेश किया गया। जहां से उक्त तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया।
 
                            सहायक मीडिया सेल प्रभारी डॉली गुप्ता ने बताया कि फरियादी बीरबल सहरिया ने थाना फतेहगढ़ में रिपोर्ट लेख करायी कि मेरी जमीन हमारे घर के पीछे हैं 10 बीघा कब्जे की जमीन में मैंने मक्का  तिली की फसल बो रखी हैं रात करीब 01 बजे ग्राम तुमड़ा निवासी जगदीश मीना, हरिचरण मीना व शिवचरण मीना तीनो अपने अपने ट्रेक्टर लेकर आये और हमारी बोयी हुई फसल को हाक दी। मैंने मना किया तो उक्त तीनों मुझे मां-बहन की जाति सूचक गालिया देने लगे मेरी मां तथा पत्नि ने गाली देने से मना किया तो शिवचरण मीना  डण्डे से मां की मारपीट करने लगा जिससे मेरी मां के पीठ व हाथ की कोहिनी के पास चोट होकर खून निकल आया।

4-
         
पिता पर बंदूक से फायर करने वाले पुत्र को न्यायालय ने भेजा जेल

जमीन बंटवारे को लेकर चल रहा था विवाद

गुना। जेएमएफसी न्यायालय गुना में जमीन बटवारे को लेकर पिता पर जान से मारने की नियत से बंदूक से फायर करने वाले आरोपी राजू जाट पुत्र सीताराम जाट को बजरंगगढ़ पुलिस पेश किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया गया। 
             सहायक मीडिया प्रभारी डॉली गुप्ता ने बताया कि फरियादी सीताराम ने अपने चार लड़को को बराबर-बराबर जमीन बाटकर हिस्से कर दिये हैं जो अपनी-अपनी खेती कर रहे हैं दिनांक 25/06/2020 के रात्रि 09 बजे की बात हैं  मेरा बड़ा लड़का राजू जाट शराब पीकर आया बोला कि मुझे जमीन में ज्यादा हिस्सा चाहियें मैंने कहां कि मैंने सबको बराबर-बराबर दे दिया हैं इसी बात पर से राजू बिना लायसेसी बंदूक लेकर आया और जान से मारने की नियत से दो फायर कर दिये जो मुझमें न लगते हुयें मेरी घर की दीवार में गोली लगी।
                

5.
          
सुरैय्या बाई पारदी का जमानत आवेदन निरस्त जेल में ही रहना होगा

गुना। न्यायालय राधौगढ़ में जान से मारने की नियत से बंदूक से फायर करने वाले आरोपी गण में सहभागी सुरैया बाई ने  जमानत के लिये आवेदन पेश किया जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया।
         एडीपीओ मयंक भारद्वाज ने बताया कि दिनांक 13.03.2020  को धरमराज पारदी, करन पारदी, सुरईया बाई राजमल पारदी, रंजीताबाई, जोनी, गिर्राज पारदी निवासीगण बीलाखेड़ी फसल काट रहे थे तभी प्रमोद, देवेन्द्र, उसकी पत्नीे व बहन बेदरा वाले खेत पर करीब 2 बजे पहुंचे और इन लोगो से फसल काटने से मना किया बहन ने कहा कि यह फसल मैने बोई है तुम क्यों  काट रहें हो तो तभी धरमराज ने उसे जान से मारने की नियत से अपनी बारह बोर बंदूक से उसके ऊपर फायर किया जिसका छर्रा मेरे बाये पैर के अंगूठा के पास आकर लगा। उक्त आरोपीया को पूर्व में गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया था जहाँ से उसे जेल भेज दिया गया।

                
नया पेज पुराने