जल वायु व धरती का संरक्षण ही सृष्टि की समग्र रक्षा कर सकता है हम अभी नहीं चेते, तो संकट तय है : मैत्री | Shivpuri News


विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर 50 परिवारों को दाना-पानी पात्र वितरित कर मनाया
शिवपुरी। विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में स्वयं सेवी संस्था शक्तिशाली महिला संगठन शिवपुरी के द्वारा गुना वायपास पर सुरक्षित दूरी का पालन करते हुए सहयोगी संस्थाओं ब्राह्मण उत्थान समिति, राष्ट्रीय सेवा योजना, संवेदना-ए सोसाइटी फॉर ग्लोबल कन्सर्न के साथ मिलकर 50 परिवारों को अनुपयोगी खाली टीन से बने पक्षियों के लिए दानी पानी पात्र का वितरण करके मनाया गया। इस अवसर पर मौजूद सब-डिविजलन आॅफीसर एमकेसिंह द्वारा एक पेड़ के नीचे पक्षियों को दाना पानी पात्र रखकर पर्यावरण दिवस का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मौजूद पर्यावरण प्रेमियों को संबोधित करते हुए एमकेसिंह ने बताया कि एक समय शिवपुरी में इतने शेर हुआ करते थे कि उनको आसानी से सड़को पर देखा जा सकता था जिससे कि जैव विविधता का संतुलन बना हुआ था। आज शिवपुरी में एक शेर लाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है और जगंली जीव जंतुओं व पक्षियों तथा पेड़ पौधो की कमी होने से जैव विविधता का संतुलन बिगड़ गया है। इस बार पर्यावरण दिवस की थीम भी जैवविविधता रखी गई है। हम सबको एक साथ मिलकर पेड़-पौधे व जीव जंतुओं के साथ मित्रवत व्यवहार करना चाहिए ताकि पर्यावरण संतुलन बना रहे। संस्था द्वारा आज जो दाना पानी पात्र की पहल की गई है वह बहुत सराहनीय है। 
कार्यक्रम संयोजक रवि गोयल ने बताया कि संस्था प्रतिवर्ष विश्व पर्यावरण दिवस मनाती है। चूंिक इस बार कोरोना वायरस के चलते पूरे विश्व में लाॅक डाउन की वजह से पर्यावरण प्रदूषण में कमी देखी गई हैं।
संस्था की रिसर्च एसोसिएट मैत्री श्रीवास्तव ने कहा कि इस पर्यावरण दिवस पर कोरोना से सबक लेते हुए पर्यावरण सहेजने की पहल करनी होगी। जल वायु व धरती का संरक्षण ही सृष्टि की समग्र रक्षा कर सकता है हम अभी नही चेते तो संकट तय है। राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रो. श्याम सुंदर खंडेलवाल ने कहा कि हम सबको मिलकर प्रकृति से अपने रिश्ते बिना किसी स्वार्थ व लालच के करने होंगे विश्व पर्यावरण दिवस पर आयाेजित कार्यक्रम में 50 वर्षों से अधिक समय से पेड़ पौधे एवं पर्यावरण को सहेजने वाले बीएल मिश्रा ने बताया कि वह 88 वर्ष की उम्र में भी जब भी मौका मिलता है तो अपने आस-पास पौधा रोपण करने से नहीं चूकते। इस अवसर पर स्वयं सेवी संस्था के प्रमोद गोयल ने कहा कि हमारे द्वारा विगत एक सप्ताह से पुराने पड़े अनुप्रयोगी कनस्तर का कलेक्शन करके उसको अच्छे से कटिंग कर पक्षियों को दाना-पानी पात्र के लिए देने की मुहिम आज प्रांरभ की गई हैं इसमें पक्षियों को पर्याप्त दाना पानी भरा जा सकेगा। इस अवसर पर वन विभाग के एमके सिंह, हेमन्त प्रतापसिंह, अभिषेक शर्मा, अतुलसिंह बघेल रेंज आफिसर, सुपोषण सखी, पर्यवेक्षक निवेदिता मिश्रा, माला मिश्रा, पर्यावरण प्रेमी प्रकाश चंद जैन, रजनी वर्मा, रजनी सेन, गायत्री कुश्वाह, नीलम सोनी, पुष्पा राठौर, बीनू सेंगर और लक्ष्मी राठौर, पूजा शर्मा, प्रमोद गोयल के साथ-साथ सुपोषण सखी मौजूद थी।
नया पेज पुराने