ओलावृष्टि 1000 हेक्टेयर भूमि की फसल नष्ट, किसान परेशान कैसे होगी बेटी की शादी

                  
शिवपुरी। बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से रन्नौद क्षेत्र के अकाझिरी, भिलारी,धंधेरा, ईचौनिया ,मोहम्मद पुर करौदी मै 100% फसल नष्ट हो चुकी है, करीब 4 घंटे की बारिश और सवा घंटे के  की ओलावृष्टि से  चना मसरा, गेहूं,धना, सरसों फसल चौपट हो चुकी है, किसानों ने बताया कितना तेज बारिश और ओलावृष्टि हुई है जिससे कि सफल जमीन मैं ध्वस्त हो चुकी रात में कई जगह पेड़ टूटे ,और धंधेरा और भिलारी मै 3 मबेशी मर चुके  है धंदेरा गांव में 3 मवेशी मौके पर ही दम तोड़ चुके,अकाझिरी और भिलारी  करीब 1000 हेक्टेयर भूमि में खडी फसल ओलावृष्टि से  नष्ट हो चुकी है जनप्रतिनिधियों से लेकर अधिकारी  फसल का जायजा लेने के लिए खेतों पर जा पहुंचे ,कांग्रेस के जनप्रतिनिधि जिला अध्यक्ष बैजनाथ सिंह यादव, पूर्व विधायक महेंद्र सिंह यादव, जिला पंचायत सदस्य योगेंद्र  रघुवंशी ,मंडल अध्यक्ष विपिन शर्मा आदि जनप्रतिनिधि तीनों चारों गांव के सर्वे करने के लिए सुबह ही निकल पड़े किसानों को आश्वासन दिया जा रहा है कि हमारी सरकार है हम आपको उचित मुआवजा दिलवाया जाएगा, इसके बाद में जिला पंचायत सदस्य जिला ने कलेक्टर मैडम से बात हुई और  मौके पर दोपहर के बाद रन्नौद तहसीलदार पटवारी राजस्व विभाग का पूरा सर्वे करने के लिए पहुंच चुका है किसानों की पीड़ा अधिक होने से कई किसानों का खेतों में बैठे हैं बताया जा रहा है कि कल शाम के ओले गिरे रात्रि पर ले का नाम नहीं ले रहे हैं।                           
कैसे होगी बेटी की शादी

अकाझिरी निवासी छत्रप्रताप लोधी ने बताया कि मेरी बेटी की अगले महीने शादी है  और मेनै 12 बीघा में धना बोया और मसरा बोया जोकि 100% नष्ट हो चुका है अब मैं अपनी बेटी के पीले हाथ कैसे करूंगा कर्ज लेकर खेती बाड़ी की जुगाड़ बनाई थी, लेकिन ओलावृष्टि से सबको सपने चकनाचूर कर चुके।
                         
किसान राजकुमार यादव निवासी भिलारी ने बताया करीब 4 घंटे की बारिश और सवा घंटा बोला हमारी बिलारी गांव में गिरा है जो कि आज शाम तक गिरने की संभावना हो सकती है हमारी फसलें 100% नष्ट हो चुकी है आगे बेटी बेटा ओं की शादी आदि कार्य करना है अब कैसे होगा यह तो भगवान नहीं भरोसे हैं। 
             
अकाझिरी  निवासी थान सिंह लोधी ने बताया मेरी धना मसरा चना गेहूं की फसल नष्ट हो चुकी है घर में खाने पीने की व्यवस्था नहीं है कर्ज लेकर फसल की बोवनी की थी भगवान में ओलावृष्टि करने से सब कुछ नष्ट कर चुके हैं।

अकाझिरी के किसान रामरतन झा नै बताया करी आठ बीगा मै धना और चना बोया था कि ओलावृष्टि 100% नष्ट हो चुक है।
नया पेज पुराने