सवाल नमोनागर सहित कई अबैध कॉलोनियों पर कब होगी कार्यवाही ? | Shivpuri News


सुनील रजक शिवपुरी । खबर अबैध कॉलोनियों से हैं शिवपुरी जिले में एक तरफ भूमाफियाओ को खत्म करने की बात कही जा रही हैं। वही प्रशासन अपना पल्ला झाड़ रहा हैं। भूमाफियाओं को एक तरफ छोड़ प्रशासन असहाय लोगों को अपना निशाना बना रहा हैं। प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री कमलनाथ के आदेश को ठेंगा दिखाता प्रशासन नज़र आ रहा हैं। भूमाफियाओं ने शहर में अबैध कॉलोनियों की लाइन लगा दी ही है एक तरफ भूमाफिया कॉलोनी पर कॉलोनी काटे जा रहे हैं। और एक तरफ प्रशासन देखता जा रहा है। कृषि योग्य भूमि को भूमाफियाओं ने कॉलोनी के रूप दे दिया हैं। और बिना सडको ओर बिना पार्क बिना मंदिर के पूरी कॉलोनी काट दी हैं। सपने दिखाकर लोगों को भूमाफियाओं ने ठगा हैं। सूत्रों की माने तो ग्वालियर बायपास पर सन 1972 तक 18 बीघा जमीन यादवों की थी। लेकिन उसके पश्चात यादव अपनी जमीन छोड़ श्योपुर चले गए थे। जिसके पश्चात भूमाफियाओं ने यादवो ओर एससी एसटी लोगों की जमीन को बांट लिया। और नोटरी ओर एग्रीमेंट कराकर गरीब लोगों की रजिस्ट्री करवा दी। देखा जाये तो 1950 का भूअभिलेख का रिकॉर्ड शायद जिले से गायब हैं। अगर दिल्ली से भूअभिलेख शाखा से शिवपुरी  जिले का मंगवाया जाएं तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएं। जिले में अभी तक एक भी भूमाफिया पर कार्यवाही नही हुई है। क्या गरीब लोगों के चमन उजाड़ने के लिए ही ये बिरोधी मुहीम शुरू की गई थी। 
नया पेज पुराने