उसैन वोल्ट: पढ़िए पूरी कहानी नरवर के रामेश्वर की जिसमें दिख रही मिल्खा सिंह की झलक | Shivpuri News

नरवर के धावक रामेश्वर में दिख रही उसैन वोल्ट और मिल्खा सिंह की झलक
शिवपुरी। नरवर के वार्ड 15 में गंज मोहल्ले का रहने वाला 19 वर्षीय एक युवक देखते ही देखते हीरो बन गया है। नंगे पैर दौड़ने का अभ्यास करते हुए इस युवक ने जैसे ही 11 सेकंड में 100 मीटर दौड़ लगाई, प्रदेशभर की उम्मीदें जाग उठीं। अब लोग उसमें उसैन वोल्ट और मिल्खा सिंह की झलक देखने लगे हैं। नरवर जैसी छोटी तहसील में रहकर रामेश्वर पुत्र कप्तान गुर्जर की पहली हसरत थी कि वह सेना में भर्ती होगा और अपने दोस्त राजेन्द्र गुर्जर की तरह देश का नाम रोशन करेगा। छविराम गुर्जर के बेटे राजेन्द्र पहले से ही सेना में हैं और जब भी राजेन्द्र गांव आता तो रामेश्वर उसके साथ दौड़ लगाने जाने लगा। रामेश्वर चाहता था कि वह सेना में भर्ती हो। इसलिए उसने अल सुबह दौड़ लगाना जारी रखा।
डामर की सड़क पर तो कभी मिट्टी में कंक्रीट इलाके में वह दौड़ का अभ्यास करता रहा। इसी बीच बीते दिनों जब रामेश्वर का एक वीडियो वायरल हुआ। उसमें 11 सेकंड में 100 मीटर की दौड़ लगाता दिखाई दिया तो प्रदेश के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने उसे बुलावा भेजा। उधर दूसरी तरफ पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने भी मंत्री किरण रिजिजू से रामेश्वर को उचित प्रशिक्षण और सुविधाएं मुहैया कराने ट्वीट किया। इसके बाद शनिवार को रामेश्वर भोपाल रवाना हो गए, जहां उनकी मुलाकात जीतू पटवारी से हुई। यहां उसे परखा जाएगा। रामेश्वर का कहना है कि वह देश के लिए कुछ करना चाहता है। यदि उसे मौका मिला तो वह निराश नहीं करेगा। रामेश्वर को गांव के लोग दरोगा के नाम से पुकारते हैं।
पिता-भाई खेती करते हैं, रामेश्वर बांटता है दूध
रामेश्वर 3 भाइयों और दो बहनों के साथ रहता है। उसके भाई और पिता खेती करते हैं, जबकि रामेश्वर दूध बेचकर परिवार की बसर करता है। अलसुबह दौड़ लगाना उसकी आदत में शुमार हो गया है। नरवर के लोग उसके जज्बे को देखकर उन्नाति की कामना करते थे। शनिवार को जब वह भोपाल रवाना हुआ तो पहले नरवर में शिक्षक राजेन्द्र रावत ने स्वागत किया और उसके साथ भोपाल रवाना हुए। वहीं भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रणवीर सिंह रावत ने अपने घर पर स्वागत किया।
बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले रामेश्वर का परिवार भी बेहद सहज और सामान्य है। पिता को अपने बेटे की इस प्रतिभा का इल्म तक नहीं है। उन्होंने कहा कि हम तो बेहद गरीब लोग हैं। घर की छत भी नहीं डलवा पाया। बेटा दौड़ता तो है पर ये तो आप लोगों से ही पता चला कि इतना अच्छा दौड़ता है।
फौज में जाना चाहता था रामेश्वर इसलिए शुरू की दौड़, अब 11 सेकेंड में पूरी करता है 100 मीटर
दोस्त राजेंद्र के सेना में जाने के बाद अब रामेश्वर की भी यही तमन्ना है। इसलिए दोस्त के साथ वो दौड़ लगाता है।
नरवर के वार्ड 15 के गंज मोहल्ले में रहने वाला रामेश्वर गुर्जर अपने दोस्त राजेन्द्र की तर्ज पर फ़ौज में जाने की तमन्ना रखता था। यही कारण रहा कि जब भी राजेन्द्र गांव आता उसके साथ रामेश्वर ने दौड़ शुरू की। फिर ऐसी लगन लगी कि वह रोज सुबह दौड़ने जाने लगा। बेहद गरीब 2 भाई, 2 बहनों के बीच रामेश्वर के पिता कप्तान गुर्जर तो खेती करते हैं। रामेश्वर दूध बांटकर घर का खर्च चलाता है।
गांव के लोग बताते हैं कि इसी बीच लगातार दौड़ते रहने के चलते रामेश्वर आज हवा से बातें करने लगा है। उसके पास दौड़ने के लिए जरूरी जूते या दूसरे साधनों का अभाव है, लेकिन जज्बे में कोई कमी नहीं हैं। 11 सेकेंड में 100 मीटर दौड़ने का वीडियो वायरल होने के बाद अब हर तरफ से मदद के हाथ आगे बढ़ रहे हैं।
मध्य प्रदेश के खेल मंत्री के बुलावे पर आज वो भोपाल में है। जहां खेल मंत्री पटवारी ने भी उसका हौसला बढ़ाया। यहां उसके दावे को परखा जाएगा। इससे पहले उसका जगह-जगह स्वागत किय गया। उसेन बोल्ट के लिए चुनौती माने जा रहे रामेश्वर को लेकर नरवर ही नहीं, बल्कि शिवपुरी जिले के लोगों को भी उम्मीदों को पंख लग गए हैं
नया पेज पुराने